नैनन में पिचकारी दई, होरी खेली न जाय | Nainan me pichkari dayi, hori kheli na jaay

तर्ज:

नैनन में पिचकारी दई, मोहे गारी दई, मोसे भाभी कही
होरी खेली न जाय, हाय होरी खेली न जाय

– 1 –

क्यों रे लंगर लंगराई मोसे कीनी, केसर कीच कपोलन दीनी – 2
लिये गुलाल ठाडो मुसकाय – ठाडो मुसकाय
होरी खेली न जाय, हाय होरी खेली न जाय
नैनन में पिचकारी दई …

– 2 –

नेक न कान करत काहू की, नजर बचावे भैया बलदाऊ की – 2
पनघट से घर लों बतराय – घर लों बतराय
होरी खेली न जाय, हाय होरी खेली न जाय
नैनन में पिचकारी दई ..

– 3 –

ओचक कुचन कुमकुमा मारे, रंग सुरंग सीस पे डारे – 2
यह ऊधम सुन मोरी सास रिसयाय – मोरी सास रिसयाय
होरी खेली न जाय, हाय होरी खेली न जाय
नैनन में पिचकारी दई ..

इस पेज को शेयर करे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *