आया जी वीराजी म्हारे आंगणिये | aaya ji veeraji mhare aanganiye

तर्ज: नखरालो देवरियो भाभी पे जादू कर ग्यो...

आया, आया, आया जी, वीराजी म्हारे आंगणिये
म्हारा बनड़ा रो मंड गयो ब्याव, वीराजी आया आंगणिये
सारा घर के चढ़ गयो चसव, वीराजी आया आंगणिये।

– 1 –

चंदा जैसो मुखड़ो थारो, लागे प्यारो-प्यारो
भाभी म्हारी शरद पूर्णिमा, चारों और उजियारो
थारी जोड़ी अमर रहे वीरा जी आया आंगणिये। आयो …

– 2 –

नौलख हीरा चूदंड़ ल्याओ, वीरा म्हारो आयो
प्यारी बहन के चूदंड़ औढ़ाई, परिवा हर्षायो
सारा घर का निरख रंहया, वीरा जी थारी चूदंड़ ने। आयो …

– 3 –

जुग – जुग जियो म्हारा भाई – भतीजा, भावज प्यारी-प्यारी
शुभ दिन और शुभ घड़ी है आई, खुशियां छाई भारी
सब गाओ मंगल गान, मायरो वीरा खूब ल्यायो। आयो …

इस पेज को शेयर करे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *