कोठे ऊपर कोठरी मैं उसमें रेल चला दूंगी | Kothe upar kothri mai usme rel chala dungi

तर्ज: मैं हूँ छोरी मालन की...

कोठे ऊपर कोठरी मैं उसमें रेल चला दूंगी
कोठे ऊपर कोठरी मैं उसमें रेल चला दूंगी…

– 1 –

जो मेरी सासू करे बड़ाई तो ऽऽ
सब तीरथ करवां दूंगी
जो मेरी सासू करे लडा़ई – 2
रोटी को तरसादूंगी। कोठे ऊपर …

– 2 –

जो मेरी जेठानी करे बड़ाई तो ऽऽ
घर का काम करा दूंगी
जो मेरी जेठानी करे लडा़ई – 2
दो चूल्हा करवादूंगी। कोठे ऊपर …

-3 –

जो मेरी देरानी करे बड़ाई तो ऽऽ
सारा प्यार लुटा दूंगी
जो मेरी देरानी करे लडा़ई – 2
पिहरिये पहुँचा दूंगी। कोठे ऊपर …

– 4 –

जो मेरी ननदल करे बड़ाई तो ऽऽ
सारे नखरे उठा लूंगी
जो मेरी ननदल करे लडा़ई – 2
पीहर को तरसादूंगी। कोठे ऊपर …

इस पेज को शेयर करे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *