मंगल मूर्ति राम दुलारे, आन पड़ा अब तेरे द्वारे | Mangal murti raam dulare, aana pada ab tere dware

तर्ज:

मंगल मूर्ति राम दुलारे, आन पड़ा अब तेरे द्वारे
हे बजरंग बलि हनुमान, हे महावीर करो कल्याण

– 1 –

तीनो लोक तेरा उजियारा, दुखियों का तूने काज सँवारा – 2
हे जग्वन्दन केसरी नंदन, कष्ट हरो हे कृपा निधान
मंगल मूर्ति राम दुलारे …

– 2 –

तेरे द्वारे जो भी आया, खाली नहीं कोई लोटाया – 2
दुर्गम काज बनावन हारे, मंगलमय दीजो वरदान
मंगल मूर्ति राम दुलारे …

– 3 –

तेरा सुमिरन हनुमत बीरा, नासे रोग हारे सब पीरा – 2
राम लखन सीता मॅन बसिया, सरण पड़े का कीजे ध्यान
मंगल मूर्ति राम दुलारे …

इस पेज को शेयर करे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *