नाम है तेरा तारणहारा, कब तेरा दर्शन होगा | Naam hai tera taaranhaara, kam tera darshan hoga

तर्ज:

नाम है तेरा तारणहारा, कब तेरा दर्शन होगा
जिनकी प्रतिमा इतनी सुन्दर,
 वो कितना सुन्दर होगा, वो कितना सुन्दर होगा
नाम है तेरा तारणहारा…

– 1 –

तुमने तारे लाखो प्राणी, यह संतो की वाणी है
यह संतो की वाणी है।
तेरी छवि पर ओ मेरे भगवन, यह दुनिया दीवानी है
यह दुनिया दीवानी है।
भाव से तेरी पूजा रचाऊ, जीवन में मंगल होगा,
जिनकी प्रतिमा…

– 2 –

सुरवर मुनिवर जिनके चरण में, निशदिन शीश झुकाते है,
निशदिन शीश झुकाते है।
जो गाते है प्रभु की महिमा, वो सब कुछ पा जाते है
वो सब कुछ पा जाते है।
अपने कष्ट मिटाने को तेरे, चरणों का वन्दन होगा
जिनकी प्रतिमा…

– 3 –

मन की मुरादे लेकर स्वामी, तेरे चरण में आये है,
तेरे चरण में आये है।
हम है बालक तेरे जिनवर, तेरे ही गुण गाते है
तेरे ही गुण गाते है।
भव से पार उतरने को तेरे, गीतों का स्वर संगम होगा,
जिनकी प्रतिमा…

नाम है तेरा तारणहारा, कब तेरा दर्शन होगा
जिनकी प्रतिमा इतनी सुन्दर,
वो कितना सुन्दर होगा, वो कितना सुन्दर होगा
नाम है तेरा तारणहारा…

इस पेज को शेयर करे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *