Tag Archive | जिनवाणी

मीठे रस से भरी जिनवाणी लागे | Meethe ras se bhari jinwani laage

मीठे रस से भरी जिनवाणी लागे, जिनवाणी लागे।
म्हने आत्मा की बात घणी प्यारी लागे।
पढ़ना जारी रखें

इस पेज को शेयर करे