Tag Archive | samdhan

रुपयो तो लईने ब्याई जी बाजरां में चाल्या | Rupyo to laine byaiji bajara me chaalya

रुपयो तो लईने ब्याई जी बाजरां में चाल्या
तो वठां से लाया रुई की लुगाई।
रुई लुगाई ने आंगणा में मेली
तो आई हवा उड़ गई रे लुगाई।
पढ़ना जारी रखें

इस पेज को शेयर करे

ऐ जी म्हारा समधी जी | Ae ji mhara samdhiji

कमर टेढ़ी समधन की, वा तो लंगड़ी लंबड़ी चल रही रे
ऐ जी म्हारा समधी जी

पढ़ना जारी रखें

इस पेज को शेयर करे