बन्नी यादों में आये | Banni yaado me aaye

तर्ज: कभी यादों में आऊं - कभी ख्वाबों में आऊं...

बन्नी यादों में आये, बन्नी ख्वाबों में आये
मेरी पलको में बसकर, वो ऐसे झिलमिलाये। बन्नी…
कभी मुमकिन नही कि एक पल भूल जाये
हो हो ओ ओ ओ ओ ओ ओ…2

– 1 –

खुश हो रहे हैं, दादाजी मेरी शादी में
हरश रही हैं, दादी भी मेरी शादी में
मेरा सेहरा सजाये, मेरा चेहरा संवारे
मुझे हर पल निहारे। हो हो ओ ओ ओ ओ ओ…
बन्नी यादों…

– 2 –

खुश हो रहे हैं, पापाजी मेरी शादी में
हरश रही हैं, मम्मी भी मेरी शादी में
मुझे कंठी पहनायेे, मुझे अंगूठी पहनाये
मुझे हर पल निहारे। हो हो ओ ओ ओ ओ ओ…
बन्नी यादों…

– 3 –

खुश हो रहे हैं, भैय्या भी मेरी शादी में
हरश रही हैं, भाभी भी मेरी शादी में
मुझे तुझसे मिलाये, मेरी जोड़ी सजाये
मुझे हर पल निहारे। हो हो ओ ओ ओ ओ ओ…

इस पेज को शेयर करे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *